• Home
  • News
  • Nainital: Prof. in DSB campus. Roop Lal gave a lecture! Said- Communication is a part of our daily life

नैनीतालः डीएसबी परिसर में प्रो. रूप लाल ने दिया व्याख्यान! बोले- कम्युनिकेशन हमारे दैनिक जीवन का अंग

  • Awaaz Desk
  • April 16, 2024
Nainital: Prof. in DSB campus. Roop Lal gave a lecture! Said- Communication is a part of our daily life

नैनीताल। कुमाऊं विश्व विद्यालय के विजिटिंग प्रोफेसर तथा फेलो ऑफ नेशनल एकेडमी एफएनए प्रो. रूप लाल ने सोमवार को डीएसबी परिसर के ओल्ड आर्ट्स सभागार में व्याख्यान दिया। प्रो. रूप लाल ने अपने व्याख्यान में कहा कि कम्युनिकेशन एक कला है जिसे हर व्यक्ति को आना चाहिए। कम्युनिकेशन हमारे दैनिक जीवन का अंग है । सबके मां बाप चाहते है की उनका बचा आगे बड़े इसलिए अपनी गलती को पहचानना, भाषा, तकनीक का सही इस्तेमाल करें। प्रो. रूप लाल नए कहा कि बायोलॉजिस्ट बनना है तो कंप्यूटेशनल ज्ञान जरूरी है। जब हम एक बार सास लेते है तो 3 मिलियन माइक्रोब्स सुष्म जीव का आदान प्रदान होता है। मानव शरीर में माइक्रोब्स का वजन डेढ़ किलो होता है। हाथ मिलाने पर 7 मिलियन माइक्रोब्स का आदान प्रदान होता है। प्रकृति में पौधो का जैविक भार सबसे ज्यादा माइक्रोब्स का 16.9 प्रतिशत, एनिमल का .003 तथा मानव का .0001 प्रतिशत होता है। ये बैक्टीरिया, कवक, शैवाल, प्रोटोजिया, वायरस है।1400 माइक्रोब्स ग्लोब में हानिकारक है तो 1 ट्रिलियन माइक्रोब्स इंसान के मददगार भी है। मानव को बीमार करने के लिए 70 बिलियन बैक्टीरिया की जरूरत होती है। कोबिड 19 से 2 बिलियन लोग प्रभावित हुए। माइक्रोब्स 25 प्रतिशतत नाइट्रोजन, 66 प्रतिशत कार्बन डाई ऑक्साइड को फिक्स करते है तो 50 प्रतिशत ऑक्सीजन भी देते है। डेयरी, अल्कोहल, ब्रेड, ऑर्गेनिक अम्ल, एंजाइम्स, स्टेरॉइड्स, सीवेज ट्रीटमेंट, मिट्टी की उर्वरकता, दही, फर्मेंटेशन, विटामिन, ये माइक्रोब्स ही देते है। उन्होंने कहा खाने को दवा के रूप में इस्तेमाल कर न की दवा को खाने के रूप में। बेहतर जीवन के लिए जीवन दिनचर्या, खाना, योगा, कम मोटापा पर विदेश ध्यान दे। कार्यक्रम का संचालन निदेशक विजिटिंग प्रोफेसर निदेशालय प्रो. ललित तिवारी ने किया। इस दौरान प्रो. चित्रा पांडे, डीएस डबलू, प्रो. संजय पंत ने प्रो. रूप लाल का स्वागत किया। संयोजक विभागाध्यक्ष प्रो. हरीश बिष्ट ने प्रो. रूप लाल का जीवन वृत्त प्रस्तुत करते हुए उनको व्याख्यान हेतु आमंत्रित किया। प्रो. रूप लाल को शॉल उड़ाकर तथा पुष्प गुच भेंट कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर डॉक्टर मनोज आर्य, डॉक्टर दीपक कुमार, डॉक्टर दीपिका गोस्वामी, डॉक्टर हिमांशु लोहनी, प्रो. नीलू लोधियाल, प्रो. सुषमा टम्टा, डॉक्टर नवीन पांडे, डॉक्टर हर्ष चौहान, डॉक्टर प्रभा, नगमा, उजमा, सीता, नेत्रपाल शर्मा, संदीप मैंडोली, गीतांजलि, वसुंधरा, कुंजिका, स्वाति, प्रांजलि, आस्था आदि मौजूद रहे। 


संबंधित आलेख: